January 25, 2013

Nakshey


नक़्शे

इक उम्र  खर्च हो गई
मैं वो नक्शा ढूँढती रही
तुझ तक पहुँचने का
तेरा दीदार पाने का
तू मुस्कुरा कर रोज़ मिलता रहा मुझे
उन नन्ही किलकारियों में ,उन बेपरवाह खुमारियों में

तू सामने हँसता रहा , मैं ऑंखें मूँद कर सो गई
मंज़िल ए मक़सूद  भूल कर बस रास्तों में खो गई

- मीनाक्षी ( 24 जनवरी , 2013 )

1 comment:

  1. Hello, Congratulations..!!!! Your Blog just won Liebster Award..!!!!! Your blog has been chosen among the other few for this award. More details is given on my blog at - http://ananthvitlani.blogspot.in/2013/02/liebster-award.html - So have your victory dance and let others dance too by continuing the Liebster tradition. Happy Blogging..!!!!

    ReplyDelete